WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

Rajasthan Contract Workers Granted Regular Status: राजस्थान में 10528 संविदा कर्मी होंगे नियमित आदेश जारी!

Rajasthan Contract Workers Granted Regular Status: राजस्थान संविदा कर्मियों को नियमित दर्जा दिया गया: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का एक ऐतिहासिक निर्णय राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए राज्य में संविदा कर्मियों के प्रति एक दयालु कदम उठाया है। नए पदों के सृजन के साथ, राजस्थान में 10,528 संविदा कर्मचारियों को नियमित रोजगार मिलना तय है। इस निर्णय में मदरसा बोर्ड के 5,562 कर्मचारी और महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) के तहत 4,966 आवेदक शामिल हैं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के इस फैसले से उन संविदा कर्मियों में खुशी की लहर दौड़ गई है जो इस बदलाव का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे. आइए इस उल्लेखनीय निर्णय और इसके निहितार्थों के बारे में विस्तार से जानें।

10,528 संविदा श्रमिकों का परिवर्तन

Rajasthan Contract Workers Granted Regular Status: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में राज्य सरकार ने विभिन्न श्रेणी के श्रमिकों के लिए अनेक सहृदय निर्णय लिये हैं। विशेष रूप से, श्री गहलोत ने राजस्थान में 10,528 संविदा कर्मियों को राजस्थान सिविल पदों पर संविदा नियुक्ति नियम-2022 के अनुसार नियमित करने के लिए नए पदों के सृजन को मंजूरी दी है।

मनरेगा श्रमिकों को सशक्त बनाना

Rajasthan Contract Workers Granted Regular Status महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) में 9 वर्ष या उससे अधिक का कार्य अनुभव रखने वाले संविदा कर्मियों के लिए मुख्यमंत्री गहलोत ने 4,966 नये पदों के सृजन को मंजूरी दी है. इन पदों में 1,698 जूनियर तकनीकी सहायक, 1,548 ग्राम रोजगार सहायक, 699 डाटा एंट्री सहायक, 622 खाता सहायक, 159 एम.आई.एस. पद शामिल हैं। प्रबंधक, 150 सहायक, 48 समन्वयक (पर्यवेक्षण और मूल्यांकन), 40 समन्वयक (आई.ई.सी./प्रशिक्षण/पर्यवेक्षण), और प्रोग्रामिंग और विश्लेषण विशेषज्ञों के लिए 1 पद। इन पदों का संचालन ग्रामीण विकास विभाग द्वारा किया जाएगा।

मदरसा बोर्ड कर्मियों का उत्थान

Rajasthan Contract Workers Granted Regular Status एक अन्य उल्लेखनीय निर्णय में, मुख्यमंत्री गहलोत ने राजस्थान मदरसा बोर्ड में 5,562 संविदा कर्मचारियों को नियमित करने का निर्णय लिया है जिनके पास 9 वर्ष से अधिक का कार्य अनुभव है। यह निर्णय इन श्रमिकों के लिए आशा की किरण बनकर आया है। 5,562 नए पदों के सृजन में 5,220 शिक्षा प्रशिक्षक, 215 कंप्यूटर प्रशिक्षक, 88 कंप्यूटर शिक्षा सहायक और 39 शिक्षा सहायक शामिल हैं। ये पद मदरसा शिक्षा क्षेत्र पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालने के लिए तैयार हैं।

निष्कर्ष

Rajasthan Contract Workers Granted Regular Status राजस्थान में 10,528 संविदा कर्मियों को नियमित करने का मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का निर्णय सरकार की अपने कर्मियों के कल्याण के प्रति प्रतिबद्धता का प्रमाण है। यह कदम न केवल इन श्रमिकों के जीवन में स्थिरता लाता है बल्कि राज्य के कार्यबल को भी मजबूत करता है। नए पदों का सृजन रोजगार के अवसर प्रदान करने और अपने नागरिकों के लिए नौकरी की सुरक्षा सुनिश्चित करने के प्रति सरकार के समर्पण को दर्शाता है। यह ऐतिहासिक निर्णय हजारों लोगों के जीवन में सुधार लाएगा और राजस्थान के समग्र विकास में योगदान देगा।

Leave a Comment